gam ki shyahi

Ye jo gam ki shyahi hai
na jane aaj kaise dwat se chhalak gayi
rakha tha kitne dino se ishe sambhalke
sabki nazaron se chhup chhupake bachake.

is shyahi ke bhi apne hi kisse hai.
kai bar aise khayal bune jo awaj tak gayi hi nahi.
kai batein aisi kahi jo uske kano tak pahunchi hi nahi.
jo bat pahunchi usne usse puchha hi nahi.
jisse ussne puchha us wakt tak shyahi ka rang raha hi nahi.

ise shyahi ki wyatha kahe ya armano ka jhujhlahat.
ise uska ahankar kahe ya na-insafi ki muskarahat.
ise uski bewafai kahe ya uski bhul jane ki aadat.
ise susk kavita kahe ya meri sikayat.

kabhi kabhi lagta hai ye gam sukhe patte ki tarah hai.
jo khayalon ki satah par tairta rahta hai.
jise wakt ki bunde bhi bhingokar duba na payi hai.
jise kiske dilase ki bahaw bhi kinare na laga payi hai.

par is gam ki shyahi ki ek bat manni paregi.
ye kabhi ankhe shukhati hai aur kabhi dawat.
kabhi dil jalti hai aur kabhi milti hai rahat.

|| गम की श्याही ||

ये जो गम की श्याही है
न जाने आज कैसे दवात से छलक गयी
रखा था कितने दिनों से इसे संभलके
सबकी नज़रों से छुप छुपाके बचाके।

इस श्याही की भी अपने ही किस्से है
कई बार ऐसे ख्याल बुने जो आवाज तक गयी ही नहीं ।
कई बातें ऐसी कही जो उसके कानो तक पहुंची ही नहीं ।
जो बात पहुंची , उसने उससे पूछा ही नहीं ।
जिससे उसने पूछा उस वक्त तक श्याही का रंग रहा ही नहीं ।

इसे श्याही की व्यथा कहे या अरमानो का झुझलाहट ।
इसे उसकी अहंकार कहे या न-इंसाफी की मुस्कराहट ।
इसे उसकी बेवफाई कहे या उसकी भूल जाने की आदत ।
इसे शुष्क कविता कहे या मेरी सिकायत ।

कभी-कभी लगता है ये गम भी सूखे पत्ते की तरह है ।
जो ख्यालों की सतह पर तैरती रहती है ।
जिसे वक्त की बुँदे भी भिंगोकर डूबा न पाई है ।
जिसे किसीके दिलासे की बहाव भी किनारा न लगा पाई है।

पर इस गम की श्याही की एक बात माननी पड़ेगी ।
ये कभी आँखें सुखाती है और कभी दवात।
कभी दिल जलाती है और कभी मिलती है रहत ।।

2 thoughts on “gam ki shyahi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s