is wakt

Tribute to Delhi gang rape victim

Yahan log naam kya, dharm kya, har bat par larte hai,

Bhasha kya, chhetra kya, ye to jajbat par larte hai.

Aaj yahan ek desh me kai desh dikhai padta hai,

Is wakt to sara desh kuruchhetra dikhai padta hai.

Ye lakchhmanrekha ke nam par boti boti noch khate hai,

samaj aur sanskriti ke nam par apne hi bachche kat khate hai.

Aaj humare hi ghar me humari stri abla dikhai padti hai,

Is wakt to sara desh droupadi ki sabha dikhai padti hai.

Lakin is badle wakt me, ab hum na rukenge, na jhukenge,

Tum nind se na jag jao, hum tab tak chillayenge.

Aaj har chowk-chowrahe me ek hi gunj sunai padta hai.

Is wakt to sara desh jallianwala bagh dikhai padta hai.

यहाँ लोग नाम क्या, धर्म क्या , हर बात पे लड़ते  है।

भाषा क्या, छेत्र क्या, हम तो जज्बात  पर लड़ते है।

आज यहाँ   एक देश में, कई देश दिखाई पड़ता है।

इस वक्त तो सारा देश, कुरुछेत्र दिखाई पड़ता है।

हम लछमणरेखा के नाम पर,  बोटी  नोंच नोंच खाते है।

समाज और संस्कृति के नाम पर, अपने बच्चे काट खाते है।

आज हमारे घर में हमारी स्त्री ही, अबला दिखाई पड़ती है।

इस वक्त तो सारा देश, द्रोपदि की सभा दिखाई पड़ती है।

लेकिन इस  बदलते वक्त में, अब हम ना रुकेंगे, ना झुकेंगे।

तुम नींद से ना जाग जाओ, हम तब तक चिल्लाएंगे।

आज हर मुहल्ले में, चौक-चौराहे में, इक ही गूंज दिखाई पड़ता है।

इस वक्त तो सारा देश, जलियांवाला बाग दिखाई पड़ता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s